तीन दिवसीय 7 वें ग्लोबल फेस्टिवल ऑफ जर्नलिज्म के पहली शाम बहुत ही शानदार रही

124

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

नोएडा के मारवाह स्टूडियो में 12 से 14 फरवरी तक चल रहे 7 वें ग्लोबल फेस्टिवल ऑफ जर्नलिज्म के पहली शाम बहुत ही शानदार रही जिसमें पत्रकारिता जगत की कई बड़ी दिग्गज शख्सियतों ने अपनी गरिमामयी उपस्थिति दर्ज कराई। यह कार्यक्रम इंटरनेशनल चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री के सानिध्य में किया जा रहा है। जिसका उद्देश्य पत्रकारिता के क्षेत्र में रुचि लेने वाले छात्र एवं छात्राओं के लिए एक प्लेटफार्म उपलब्ध कराना ताकि वे अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन कर समाज के निर्माण में अपना योगदान दे सकें।


इस फेस्टिवल में न्यूज पेपर एसोसिएशन आफ इंडिया के अध्यक्ष विपिन गौर, आईटीवी के प्रमुख अजय शुक्ला, वरिष्ठ पत्रकार राशिद हाशमी, न्यूज़ इंडिया के पॉलिटिकल एडिटर संजय सिंह सहित कई अन्य लोग उपस्थित रहे। पत्रकारिता समाज का दर्पण होता है और वर्तमान समय में पत्रकारिता के बदलते स्वरूप पर चर्चा के लिए समाज के इन तमाम बुद्धिजीवी वर्ग को इस ग्लोबल फेस्टिवल ऑफ जर्नलिज्म में आमंत्रित किया गया था।
वर्तमान समय में पत्रकारिता के विषय पर सभी वरिष्ठ पत्रकारों ने अपने अपने विचार रखें जिसमें जिसमें आईटीवी के चीफ अजय शुक्ला ने कहा कि वर्तमान समय में प्रतिस्पर्धा इतनी बढ़ गई है कि लोग जल्दी खबरों को दिखाने की होड़ में उसकी वास्तविकता को जांचने की भूल कर जाते हैं जो समाज पर नकारात्मक असर डालता है। वरिष्ठ पत्रकार राशिद हाशमी ने कहा कि किसी भी कार्य को करने के लिए साहस होना चाहिए एक जर्नलिस्ट के लिए विश्वसनीयता बहुत ही जरूरी है तभी वह खबरों की वास्तविकता तक पहुंच सकता है।
पत्रकारिता को ही अपने जीवन का आधार मानने वाले संजय सिंह ने कहा कि जीवन में तीन चीजें बहुत ही जरूरी है जो कि पत्रकारिता की आधारस्तंभ है जोश, जज्बा और जुनून इन्हीं की बुनियाद पर आपका भविष्य तय होता है। पत्रकारिता के लिए सबसे बड़ी चुनौती आपकी नैतिकता और आपके अपने कार्यों के प्रति समर्पण भाव है।अपने अनुभवों को साझा करते हुए आरके सिंह ने कहा कि यदि आपको वास्तव में पत्रकारिता के क्षेत्र में कुछ कर दिखाना है तो इसके लिए आपको लिखना और बोलना आना चाहिए।

आईसीएमईआई के प्रेसिडेंट संदीप मारवाह ने कहा कि पत्रकारिता के लिए जुनून सबसे आवश्यक है। साथ ही व्यवहार कुशलता बहुत ही जरूरी है। आपका सरल स्वभाव ही आपको शिखर तक ले जाने में मदद करता है। पत्रकारिता के लिए नॉलेज का होना अति आवश्यक है इसके लिए ज्यादा से ज्यादा अध्ययन करना इसका एक सबसे बड़ा पहलू है क्योंकि वास्तविक सत्य तक पहुंचने के लिए वास्तविक ज्ञान होना आवश्यक है। संदीप मारवाह ने पत्रकारिता से जुड़े हुए सभी बच्चों को उनके उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाएं दी और कहा की पत्रकारिता में सत्य को दिखाना जरूरी है लेकिन उससे पहले यह जानना जरूरी है कि उस सत्य को कैसे दिखाया जाए। पत्रकारिता एक जुनून है एक विश्वास है एक समर्पण है। यहाँ आये सभी अतिथियों को सम्मानित कर उन्हें ICMEI की लाइफ टाइम मेम्बरशिप दी गई।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.