तीन दिवसीय ‘ग्लोबल फेस्टिवल ऑफ जर्नलिज्म’ के तीसरे दिन की शुरुआत शानदार रही

88

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

नोएडा के मारवाह स्टूडियो में चल रहे तीन दिवसीय ‘ग्लोबल फेस्टिवल ऑफ जर्नलिज्म’ के तीसरे दिन की शुरुआत बहुत ही शानदार रही जिसमें पत्रकारिता के सकारात्मक पहलू एवं इसके सामाजिक उत्तरदायित्व के विषय पर गंभीर रूप से चर्चा की गई। इस कार्यक्रम में असमी राजा, शिवानी पांडे, अनिर्बन रॉय, भारती एस प्रधान, मिस्र के कल्चरल काउंसलर डॉ मोहम्मद शोकुर नाडा, बेनुजुएला के एम्बेसडर अगस्टो मोंटेल,गांबिया की हाई कमिश्नर जैनाबा जगाने,आइसलैंड के एम्बेसडर स्टेफानासन सहित कई गणमान्य महानुभावों ने अपनी गरिमामयी उपस्थिति दर्ज कर कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई।

दीप प्रज्वलन के साथ कार्यक्रम की शुरुआत की गई एवं भगवान गणेश के मंत्र उच्चारण के साथ ICMEI के प्रेसिडेंट संदीप मारवाह ने अपने संबोधन की शुरुआत करते हुए कहा कि वर्तमान समय में सकारात्मक समाचारों को बढ़ावा मिलना चाहिए ताकि समाज के विकास में सहायक हो सके। हमें समाज के लिए उपयोगी सामाजिक मूल्य को बढ़ाने वाली न्यूज को मान्यता देनी चाहिए ताकि समाज को इसका लाभ मिल सके।

नेटवर्क-18 के ग्रुप एडिटर अनिर्बान रॉय ने कहा कि वर्तमान समय में तकनीकी के बढ़ते हुए प्रयोग से प्रत्येक व्यक्ति आज पत्रकार की भूमिका निभा सकता बस उसे सत्य और असत्य का फर्क करना आना चाहिए इससे समाज में समावेशी विकास को गति मिलती है।

सातवें ग्लोबल फेस्टिवल ऑफ जर्नलिज्म में शामिल हुए समाज के सभी प्रबुद्ध गणमान्य महानुभावों ने मीडिया के क्षेत्र में बड़ी भूमिका निभाने वाले मारवाह स्टूडियो के संस्थापक संदीप मारवाह की तारीफ करते हुए कहा कि मारवाह स्टूडियो समाज में ऐसे पत्रकारों के निर्माण में योगदान दे रहा है जो अपने उत्तरदायित्व का निर्वाहन कर अपनी जिम्मेदारियों को पूर्ण करते हुए समाज निर्माण की दिशा में आगे बढ़ रहे है।

इस कार्यक्रम में कुछ अंतरराष्ट्रीय स्तर के प्रबुद्ध महानुभाव ने भी शिरकत की और अपने व्याख्यान में कहा कि भारत दुनिया का सबसे युवा देश है और पत्रकारिता के क्षेत्र में भारत एक बड़ी भूमिका निभा सकता है।आज संपूर्ण विश्व भारत की तरफ देख रहा है क्योंकि भारत में अनंत ऊर्जा मौजूद है बस जरूरत है संभावनाओं को एक प्लेटफार्म पर लाकर उसका सही रूप से उपयोग करने की |

इस कार्यक्रम में भारत और गांबिया एवं भारत और आइसलैंड के बीच दो एमओयू भी साइन किए गए। यहाँ फेस्टिवल में शामिल हुए सभी अतिथियों को लाइफ मेंबरशिप ऑफ इंटरनेशनल मोमेंटो देकर उन्हें सम्मानित भी किया गया।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.